सम्भरिकी

संगठन चार्ट

ड्यूटी चार्टर

निदेशक, परिभारिकी ()

  1. एनसीसी के लिए वस्त्रों और उपस्करों की आवश्यकता,का प्रावधान और क्रय को समय से पूर्व सुनिश्चित करना।
  2. रक्षा मंत्रालय को वस्त्र मदों/उपस्करों की वार्षिक आवश्यकता प्रस्तुत करना ।
  3. वस्तुओं/उपस्करों पर होने वाले खर्चों का पहले से ज्ञात करना, योजना बनाना और मॉनिटर करना तथा बजट नियंत्रण सुनिश्चित करना।
  4. नए उपस्करों को लगाने के लिए मामले को रक्षामंत्रालय भेजना ।
  5. निविदा क्रय समिति के लिए विवरण-पत्र बनाना और संक्षिप्त विवरण तैयार करना और क्रय प्रस्ताव प्रबंधन का निर्णय लेने में समिति की सहायता करना।
  6. ट्रेड/आयुध/आयुध निर्माणियों  से वस्तुओं/उपस्करों की प्राप्ति को पूरा करने संबंधी कार्य की प्रगति तथा मॉनिटरिंग करना।
  7. वस्त्रों, उपस्करों, वाहनों, वस्तुओं नियंत्रित मदों तथा एसेसरी के गुणवत्ता आश्वासन तथा निरीक्षण के लिए गुणता आश्वासन महानिदेशालय के साथ नियमित संपर्क रखना।
  8. क्रय सेल द्वारा निविदा नोटिस का समय पर प्रकाशन और खोलना सुनिश्चित करना।
  9. निविदा क्रय समिति के गठन और वस्तुओं तथा उपस्कर क्रय करने के संबंध में रक्षा मंत्रालय के साथ टी पी सी की तथा अन्य बैठकें आयोजित करना।
  10. सभी उप निदेशक, वस्त्र और संयुक्त निदेशक परिभारिकी (वाहन एवं उपस्कर),वायु और क्रय सेल के कार्यों का निरीक्षण करना।
  11. वस्त्रों और संबंधित एसेसरी के साथ उनके उपयोगिता चक्र तथा अपशिष्ट निपटान नीति सहित क्रय नीति बनाना ।
  12. कार्यवृतों /सीएफए के अनुमोदन के बाद आपूर्ति आदेशों को सही समय पर जारी करना तथा आपूर्तियों की मॉनिटरिंग सुनिश्चित करना।
  13. क्रय की गई मदों को सूची के अनुसार प्रयोक्ताओं को देने के लिए मॉनिटर करना।
  14. उपस्कर और वस्तुओं के लिए उप महानिदेशक, परिभारिकी के सलाहकार के रुप में कार्य करना।

15.        संयुक्त निदेशक परिभारिकी (वाहन एवं उपस्कर) की अनुपस्थिति में उनका अतिरिक्त कार्यभार संभालना ।

 

ड्यूटी चार्टर

संयुक्त निदेशक, परिभारिकी (वाहन एवं उपस्कर)

 

  1. सभी एनसीसी निदेशालयों से जानकारी प्राप्त कर सभी उपस्करों, वाहनों, शस्त्रों, गोला-बारुदों और अन्य नियंत्रित सामान के वार्षिक प्रावधानों की समीक्षा करना।
  2. अपने पास उपलब्ध विशेष वाहनों सहित 'ए' और  'बी' वाहनों का रख-रखाव एवं मॉनिटर करना। वाहनों के अतिरिक्त और कमी का हिसाब रखना।
  3. सैन्य वाहनों के लिए एमआईएसओ और ई एवं एमडब्लूई निदेशालयों से संपर्क बनाए रखना।
  4. हथियार एवं गोला-बारुद:-
    1. शस्त्रों एवं गोला-बारूद के भंडारण एवं सुरक्षित अभिरक्षा नीति का निर्धारण।
    2. सभी एनसीसी यूनिटों से प्राप्त गोला-बारुदों के भंडार एवं खपत की विवरणी एवं बजट पर अनुवर्ती कार्रवाई करना।

5.   निदेशालयों से विभिन्न रिपोर्टों एवं विवरणी प्राप्त करना और उन्हें मॉनिटर करना।

6.   निदेशालयों, ग्रुप मुख्यालयों और यूनिटों की गुणता नियंत्रण, मरम्मत, निरीक्षण, संशोधन एवं अद्यतनता पर नीतियां जारी करना।

7.   वाहनों की खरीद एवं आवंटन के प्रावधानों की समीक्षा संबंधी अनुमोदनों के लिए रक्षा मंत्रालय को मामलें भेजना।

8.   वाहनों की खरीद, मरम्मत और पुर्जों के लिए आवंटित बजट का रख-रखाव एवं मॉनिटर करना।

9.   विभिन्न केन्द्रीय कार्यो/कार्यक्रमों के लिए वाहनों की अटैचमेंट के लिए अनुदेश जारी करना।

10.  सड़क संचालन और अतिरिक्त मीटर मापन की संस्वीकृति प्रदान करना।

11.  गणतंत्र दिवस शिविर (आरडीसी) के लिए 'ए' और  'बी' वाहनों और अन्य पुर्जों एवं एनसीसी राष्ट्रीय खेलों के लिए 'बी' वाहनों की व्यवस्था करना।

12.  अनुपयोगी 'बी' वाहनों का निपटान एवं 'बी' वाहनों की हटाने की नीति को अद्यतन करना।

13.  गणतंत्र दिवस शिविर की स्थापना एवं इसके संचालन के लिए निम्नलिखित मामलों के संबंध में उप महानिदेशक (परिभारिकी) की सहायता करना:-

(क)  पड़ोसी राज्य निदेशालयों से आरडीसी एवं एनसीसी राष्ट्रीय खेलों के दौरान ड्यूटी के लिए वाहनों को एटैचमेंट करना।

(ख)  लाल किताब के अनुसार अन्य संबंधित कार्य।

ड्यूटी चार्टर

संयुक्त निदेशक, परिभारिकी (वायुसेना)

1.   खपत प्रारुप/ओईएम या आपूर्तिकर्ता के सुझाव के अनुसार पुनरावर्ती आवश्यकताएं एकत्रित करना एवं (प्रवेशन) के बाद भविष्य में नये अधिग्रहणों के लिए भी विभिन्न राष्ट्रीय कैडेट कोर वायु स्क्वाड्रन से प्राप्रत मांगों की जांच करना।

2.   अनुमोदित प्रपत्र पर (एसओपी 01/2012 की परिशिष्ट 'बी' के अनुसार) मांगे गए सामान के लिए कोटेशन (निविदा) मांगना।

3.   यदि आवश्यक है तो कीमत संबंधी बातचीत करना।

4.   अंतिम कीमत (कर, खर्च, अधिष्ठान, प्रवर्तन में लाना (चालू करना) आदि सहित) के लिए सीएफए का अनुमोदन करना और संबंधित फर्म/ओईएम से प्रापण/परिशोधन के लिए जिसके लिए फर्म से पहले ही कोटेशन प्राप्त किया गया है। उपयुक्त आपूर्त/कार्य मरम्मत आदेश देना।

5.   वायुसेना परिसम्पत्तियों के लिए कोड शीर्ष 01/544/01 के अंतर्गत निर्धारण के आधार पर निधि के आवंटन के लिए निदेशक परिभारिकी बी-2 के साथ की गई कार्रवाई पर चर्चा करना।

6.   आवश्यक होने पर कोड शीर्ष 01/544/01 के अंतर्गत आवंटित निधि की निगरानी करना और भविष्य के लिए निधियों की मांग का पूर्वानुमान करना।

7.   आदेश जारी करने से पूर्व सभी क्रय/मरम्मत/कार्य के लिए सीएफए संस्वीकृति प्राप्त करना।

8.   सीडीए के माध्यम से फर्म को भुगतान करने के लिए बिल तैयार करना।

9.   वायु स्क्वाड्रन के साथ हैंगरों के स्थानों के लिए तिथि संकलन।

10.  आरडीसी एवं एनसीसी एनजी में पारिभारिकी प्रकोष्ठ से संबंधित पारिभारिकी कार्य के निष्पादन में उप महानिदेशक परिभारिकी की सहायता करना।

11.  परिभारिकी मामलों में वायु से असंबद्ध तकनीकी मुद्दों पर उप महानिदेशक पारिभारिकी एवं सभी वायु स्क्वाड्रनों के सलाहकार के रुप में काम करना।

12.  संयुक्त निदेशक वायु (तकनीकी) की अनुपस्थिति में उनके स्थान पर कार्य करना।

ड्यूटी चार्टर

संयुक्त निदेशक, परिभारिकी (भवन निर्माण एवं क्वार्टर संबंधी कार्य)

1.   निदेशक पारिभारिकी (बी) के प्रति जवाबदेह एवं उनकी अनुपस्थिति में उनके कार्य करना।

2.   आने वाले वर्ष के लिए कार्यों के लिए अनुमानित बजट का पूर्वानुमान लगाना एवं योजना बनाना।

3.   पूंजीगत एवं राजस्व कार्यों के संबंध में बजट प्रबंधन एवं कार्यों की प्रगति की निगरानी करना।

4.   प्रशासनिक अनुमोदन एवं राशि जारी करने की मांग करने वाले सभी पूंजीगत एवं राजस्व कार्यों से संबंधित महानिदेशक के कार्यक्षेत्र के अंतर्गत सारे मामलों पर कार्रवाई करना।

5.   रख-रखाव संबंधी निधियों का आवंटन से संबंधित मामलों पर कार्रवाई करना।

6.   विद्युत/पानी/नगरपालिका कर के भुगतान के लिए निधियों का आबंटन।

7.   एनसीसी आरडीसी को उपयुक्त कार्य सेवाएं उपलब्ध करना एवं ओसी कैंप के साथ समन्वय करके समय पर मरम्मत एवं रख-रखाव सुनिश्चित करना।

8.   पारिभारिकी के लिए स्टैंडवाय पावर सुनिश्चित करना।

9.   शिविर कार्यों का उपयुक्त कार्यान्वयन के लिए कार्य प्रणाली बनाना।

10.  नियमित आधार पर कार्यों की प्रगति का रख-रखाव एवं अद्यतन करना।

11.  आरडीसी में पारिभारिकी प्रकोष्ठ से पारिभारिकी कार्य के निष्पादन में और एनसीसी राष्ट्रीय खेल से संबंधित आवास एवं संबद्ध सेवा उपलब्ध कराने में उप महानिदेशक पारिभारिकी की सहायता करना।

12.  निदेशक पारिभारिकी (बी) की अनुपस्थिति में उनका कार्यभार संभालना।

ड्यूटी चार्टर

संयुक्त निदेशक, परिभारिकी (नौसेना)

1.   नौसेना उपकरण। नौसेना यूनिटों में नौसेना उपकरण से संबंधित निम्नलिखित मामलें देखे जाते है।

          (क)  नौसेना उपकरण की विवरणी।

          (ख)  उपकरणों की मरम्मत के लिए सीएफए की संस्वीकृति के लिए मामलें पर कार्रवाई करना।

         (ग)  अधिकारियों के बोर्ड द्वारा उपकरण को किफायती मरम्मत से परे घोषित करने के लिए सीएफए के अनुमोदन हेतु मामले पर कार्रवाई करना।

         (घ)  अधिकार क्षेत्र के आधार पर नौसेना उपकरण को खरीदने एवं अनुपयोगी घोषित करने की उपयोगिता चक्र के आधार पर मामलों की निगरानी करना।

2.   पीईटी में प्राधिकृत नौसेना उपकरण को खरीदने की संस्वीकृति के लिए मामलों को रक्षा मंत्रालय भेजना।

3.   एनसीसी की नौसेना यूनिटों में नौसेना मदों एवं उपकरण को लगाने के लिए अधिकृत करने एवं अनुमोदन प्राप्त करने के लिए मामलों की रक्षा मंत्रालय में आगे बढ़ाना।

4.   एनसीसी की नौसेना यूनिटों में नौकाओं की स्थिति की निगरानी करना एवं मरम्मत एवं बीईआर अनुमोदन के लिए सीएफए की संस्वीकृति करना।

5.   पारिभारिकी मामलों में सभी नौसेना इकाइयों  को उप महानिदेशक पारिभारिकी के सलाहकार के रुप में    काम करना।

6.   गणतंत्र दिवस शिविर एवं एनसीसी राष्ट्रीय खेल में पारिभारिकी प्रकोष्ठ के रुप में पारिभारिकी कार्यों के निष्पादन में उप महानिदेशक, पारिभारिकी की सहायता करना।ड्यूटी चार्टर

उप निदेशक, परिभारिकी (समन्वय)

1.   पारिभारिकी निदेशालय में विभिन्न गतिविधियों का समन्वय करना।

2.   पारिभारिकी से संबंधित बिन्दुओं पर महानिदेशक, अपर महानिदेशक एवं उप महानिदेशक का टूर नोट्स में प्रगति।

3.   सम्मेलन के लिए प्रशासनिक पारिभारिकी बिन्दुओं की तैयारी एवं संकलन करना।

4.   उप महानिदेशक (पारिभारिकी) की अध्यक्षता में हुए सभी सम्मेलनों के कार्यवृत पर प्रगति की निगरानी जारी करना।

5.   पारिभारिकी सम्मेलन पारिभारिकी संवर्ग के कार्यवृत जारी करना।

6.   एनसीसी निदेशालयों भण्डारों से संबंधित हानियों के विषय में कार्रवाई एवं नियमितिकरण करना।

7.   लेखा एवं वित्तीय अनियमितताओं के मामलो पर कार्रवाई करना एवं लेखा परीक्षा से संबंधित आपत्तियों को निपटाना।

8.   पारिभारिकी निदेशालय को खोलने/बंद करने के लिए सुरक्षा कार्यालय, एच ब्लॉक से त्रैमासिक आधार पर अनुमति प्राप्त करना।

9.   संयुक्त निदेशक (समन्वय) की अनुपस्थिति में उनका कार्य भार संभालना।

डयूटी चार्टर

संयुक्त निदेशक,परिभारिकी समन्वय 

  1. एन सी सी के राष्ट्रीय खेल तथा गणतंत्र दिवस शिविर के लिए विभिन्न मदों /कार्यों के लिए विक्रेताओं की सूची तैयार करना।
  2. एन सी सी के राष्ट्रीय खेल के लिए फर्नीचर,हार्स शो तथा प्रधानमंत्री रैली के लिए संविदा करना।
  3. एन सी सी के राष्ट्रीय खेल और गणतंत्र दिवस शिविर के लिए सूखे/ताजे खाद्यान्न के लिए संविदा करना।
  4. थलसेना शिविर. एन सी सी के राष्ट्रीय खेल और गणतंत्र दिवस शिविर के लिए पदकों और ट्रॉफियों के लिए संविदा करना ।
  5. एन सी सी के राष्ट्रीय खेल एवं गणतंत्र दिवस शिविर के लिए अग्नि शामक, जल आपूर्ति तथा एन सी सी राष्ट्रीय खेलों के लिए एम्बुलेंस का प्रबंध करना।
  6. सिविल वाहन किराये पर लेने के लिए तथा वाहनों की देखभाल/मरम्मत के लिए विक्रेताओं को सूची बद्ध करना।
  7. शिविर आवास एवं एन सी सी सभागार आवंटित करना।
  8. दिल्ली में अधिकारियों को अस्थाई दौरों पर भेजने के लिए सिविल वाहनों को किराये पर लेने के लिए समन्वय करना।
  9. तत्काल मांग कर्ताओं और सम्मेलनों के लिए भी वाहन किराये पर लेने से पूर्व अपर महानिदेशक (बी) का पूर्व अनुमोदन प्राप्त करना।
  10. राष्ट्रीय कैडेट कोर महानिदेशालय मुख्यालय में तैनात अधिकारियों के स्थानीय संचलन के लिए वाहन उपलब्ध कराने हेतु एम टी प्रभाग से समन्वयन करना।
  11. उप निदेशक, समन्वय तथा शिविर कमान अधिकारी के कार्यों का निरीक्षण करना तथा राष्ट्रीय कैडेट कोर महानिदेशालय शिविर के एम टी ओ के कार्य करना।
  12. मुख्यालय राष्ट्रीय कैडेट कोर महानिदेशालय के वाहनों के संदर्भ में ट्यूबों/टायरों/बैटरियों/तिरपालों/वी के एल मदों को समय पर उपलब्ध कराना सुनिश्चित करना।
  13. एम वी आर तैयार करना, ईंधन का प्रावधान करना, मांग भेजना, भंडारण करना तथा बजट प्रबंधन।
  14. एम टी से संबंधित लेखा जांच आपत्तियों को निपटाना।
  15. वाहनों/कल पुर्जों की कमी को दूर कराना।
  16. आर डी सी में सामानों की खरीद, श्रमिकों की नियुक्ति तथा क्वाटर मास्टर एवं एम टी ओ के कार्यों की देखभाल में उप महानिदेशक, परिभारिकी की सहायता करना।
  17. प्रधानमंत्री रैली के लिए शिविर कमान अधिकारी के साथ समन्वय करके समग्र परिभारिकी समन्वय कार्य में उप महानिदेशक, परिभारिकी की सहायता करना।
  18. राष्ट्रीय कैडेट कोर महानिदेशालय शिविर में शिविर कमान अधिकारी की अनुपस्थिति में शिविर कमान अधिकारी के रूप में कार्य करना।